गुरुवार, अगस्त 30, 2018

kagaz ki talash

जिन दर्दों को लिखता हूँ “मैं”
उन दर्दों को सहने वाले
नहीं ख़रीद पाते
अख़बार और पत्रिका...

कागज़ की तलाश - गुरमिन्दर सिंह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any span link in the comment box.