रविवार, जनवरी 19, 2020

घास

इस बार कितनी उगी
कितनी कटी
कितनी बची
चलो गिनती करो
क्या बची कितनी बची
कब तक बचेगी
कितनी बिक्री कर दी गयी
बरसाती घास
फिर आंकलन करो
आने वाले वर्षों में
क्या है सम्भावना घास की
बनाओ बजट
करो योजना तैयार
फिर बैठकों में विचार
तैयारी करनी होगी
घास की 
घास पर ही तो ठहरी है
हमारे जीवन की घास
जो वर्षों से उगती रही
और उगती रहेगी हमेशा
बरसाती घास।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any span link in the comment box.