शनिवार, जून 27, 2020

विद्यालय प्रबन्ध समिति बैठक रजिस्टर


विद्यालय प्रबन्ध समिति बैठक रजिस्टर क्या है

निःशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार नियमावली 2011 में विद्यालय प्रबन्ध समितियों से यह अपेक्षा की गयी है कि माह में न्यूनतम एक बार विद्यालय प्रबन्ध समितियों की बैठक अवश्य होगी और बैठकों में लिए गये निर्णय व कार्यवृत का अभिलेखीकरण होगा तथा सार्वजनिक किया जायेगा। इस अपेक्षा को ध्यान में रखते हुए विद्यालय प्रबन्ध समिति बैठक रजिस्टर को विकसित किया जाता है। रजिस्टर बनाते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए।

 विद्यालय प्रबन्ध समिति के सदस्यों को बैठकों में चर्चा करने निर्णय लेने व उसे सार्वजनिक करने में सहूलियत हो। विद्यालय प्रबन्ध समितियों के कार्यकाल के दृष्टिगत रजिस्टर दो वर्ष के लिए तैयार जाता है ताकि विद्यालय प्रबन्ध समिति द्वारा दो वर्षो में किये गये कार्यों का अभिलेख तैयार हो सके। रजिस्टर विद्यालय प्रबन्ध समिति (एस.एम.सी.) (School Management Committee - SMC) सदस्यों को यह अवगत करायेगा कि गत माह में हमने क्या निर्णय लिये और उनके सापेक्ष कार्य कर सके और आगामी माह के लिए हमने कौन-कौन से कार्य निर्धारित किये है। यह अभिलेख कृत कार्या की समीक्षा एवं आगामी कार्यो के नियोजन में मदद करेगा। यह रजिस्टर बैठक में एजेण्डा तय करने व एजेण्डावार चर्चा को आगे बढ़ाने में एक मार्गदर्शिका का कार्य करता है तथा कुछ ही समय में समिति के सदस्य बैठक करने की प्रक्रिया व तरीकों से भी अवगत हो जाते है। 
इसके अतिरिक्त रजिस्टर में अभिलिखित निर्णय जिम्मेदारियां आदि एस.एम.सी. की सहभागिता व सामूहिक प्रयास का एक पुख्ता उदाहरण होगा। इससे प्रबन्ध समिति के सदस्य अपने कार्यों की समय-समय पर समीक्षा कर सकेंगे, आम सभा, अभिभावकों की बैठक व सोशल आडिट में इसके माध्यम से अपने कार्यों का लेखा-जोखा प्रस्तुत कर सकते है।

रजिस्टर में निम्नवत् मुख्य बिन्दु सम्मिलित किये जाए -
·     विद्यालय प्रबन्ध समितियों के सभी सदस्यों का विवरण
·     प्रत्येक महीने के लिए अनिवार्य एजेण्डा बिन्दु व अन्य चर्चा के बिन्दुओं का विवरण
·     महीने की मुख्य गतिविधियों का विवरण
·     बैठक में की गयी चर्चा व मुख्य निर्णय
·     अनियमित उपस्थिति वाले बच्चों की सूची व उन्हें नियमित रूप से विद्यालय जाने के लिए एस.एम.सी.  के सदस्यों द्वारा किया जाने वाला प्रयास।

विद्यालय प्रबन्ध समिति बैठक रजिस्टर के प्रयोग के तरीकेः-
बैठक से पूर्व तैयारीः-
·   एस.एम.सी.  के सभी सदस्यों की राय से बैठक की तिथि, दिन व समय एवं स्थान तय हो।
·  बैठक की तिथि की जानकारी कम से कम तीन दिन पूर्व बच्चों के माध्यम से सदस्यों तक पहुँचाये। यह सुनिश्चित करें कि समिति के सभी सदस्यों को बैठक की सूचना पहुँच गयी है तथा वे बैठक में आने के लिए तैयार हो।
·  बैठक से पूर्व समिति के सदस्यों के बैठक का स्थल निर्धारित कर उनके बैठने की व्यवस्था कर लें।
·  बैठने की व्यवस्था ऐसी हो कि सभी सदस्य गोल घेरे में बैठे ताकि वे ठीक से बोल सकें व एक दूसरे की बातें सुन सकें।
बैठक करते समयः- सर्वप्रथम सभी सदस्यों का स्वागत किया जाये। बैठक का संचालन सदस्य सचिव द्वारा किया जाये तथा समिति के अध्यक्ष की सहमति से प्रारम्भ किया जाये। अध्यक्ष यदि किसी कारणवश अनुपस्थित है तो उपाध्यक्ष द्वारा अध्यक्षता की जाये।
·  विद्यालय प्रबन्ध समिति की प्रथम बैठक में उनके द्वारा किये जाने वाले कार्यों को पढ़कर चर्चा की जाए ताकि समिति के सदस्य अपने कार्यों को भली-भाँति समझ सकें। आवश्यकता पड़ने पर बीच-बीच में भी इस विषय पर चर्चा करते रहे।
·  बैठक की शुरूआत में गत माह की बैठक का निर्णय व उस पर की गयी कार्यवाही सदस्य सचिव द्वारा पढ़ी जाये। यदि कार्यवाही के कुछ बिन्दु अवशेष हो तो उन्हें लिख लिया जाये।
· उसके उपरान्त बैठक का एजेण्डा बिन्दु एक-एक करके पढ़ा जाये तथा उस पर चर्चा की जाये। चर्चा में सभी सदस्यों की राय व सहमति सुनिश्चित करते हुए एजेण्डा वार चर्चा के बिन्दु लिखे जाए
·  बैठक से पूर्व सदस्यों को यह भी बताया जाये कि बैठक का विद्यालय के लिए गाँव के बच्चों के लिए व सरकार के लिए क्या महत्व हैं साथ ही यह भी बताये कि समिति के सदस्य के रूप में उनकी सहभागिता अत्यधिक महत्वपूर्ण है।
· समिति के सदस्य यह भी जाने कि उनके द्वारा की जा रही चर्चा लिखी जा रही है तथा उनके द्वारा किये जाने वाले कार्य भी दर्ज किये जा रहे है।
·     बैठक का कार्यवृत्त लिखने के लिए समिति के कुछ पढे़-लिखे सदस्यों का सहयोग लिया जा सकता है।
·  बैठक करते समय बैठक में उपस्थित महिलाओं की सहभागिता का पूरा ध्यान रखा जाये।
·   एस.एम.सी. की बैठक में कम से कम 6 अभिभावकों सदस्यों की उपस्थिति आवश्यक है।
· प्रत्येक माह की बैठक की कार्यवाही (अभिलेख) पर उपस्थित सदस्यों के हस्ताक्षर या अंगूठे के निशान लिये जाएसमिति के सदस्यों द्वारा यदि कुछ विशेष व सराहनीय कार्य किये गये हो तो उनके कार्यो की सराहना कर उन्हें सम्मानित किया जाये।
·   बैठक के बीच-बीच में “अभियान गीत” अथवा कुछ प्रेरक कथाओं का वाचन आदि भी करते रहे साथ ही कुछ नवीन व महत्वपूर्ण निर्णयों की जानकारी दें।
·  विद्यालय की विशेषताओं उपलब्धियों व चुनौतियों पर भी चर्चा करें यदि विद्यालय द्वारा कोई नवाचार किया गया हो तो उसे भी अभिलेखित किया जाये।
· रजिस्टर के माध्यम से बच्चों की उपस्थिति को नियमित करने में मदद मिलेगी। अनुपस्थित बच्चों का नाम कक्षावार एवं माहवार रजिस्टर में दर्ज करना है।
·     एस.एम.सी. की बैठकों में बच्चों की अनुपस्थित पर चर्चा करना है।
· बच्चों की नियमित उपस्थिति की जिम्मेदारी एस.एम.सी. सदस्यों को दी जायेगी। एस.एम.सी. सदस्यों, बच्चों और अभिभावक का नाम रजिस्टर में दर्ज किया जायेगा।
·  एस.एम.सी. अपने सेवित क्षेत्र के सभी अभिभावकों के साथ बैठक और चर्चा करें कि वे अपने बच्चों को नियमित रूप से विद्यालय भेजे और उनके साथ शिक्षा के महत्व पर चर्चा करें।
·  प्रत्येक माह की बैठक में दिये गये एजेण्डा- अनिवार्य चर्चा बिन्दु, सुझावात्मक चर्चा बिन्दु एवं विद्यालय की स्थानीय परिस्थतियों के आधार पर चर्चा करें। विद्यालय को प्राप्त अनुदान एवं खर्च तथा वित्तीय मुददों पर  प्रत्येक माह की बैठक के एजेण्डा में शामिल करें और चर्चा की जाए। 
·  एजेण्डा के आधार पर क्या-क्या कार्यवाही हुई, किन-किन बिंदुओं पर चर्चा हुई, क्या-क्या निणर्य लिये गये, बैठकों का फॉलोअप, नये मुद्दे, कठिनाईयाँ/परेशानियाँ, सुझाव और कार्यवाही को रजिस्टर में दर्ज किया जाए।
· विद्यालय के संबंध में प्रशासनिक एवं शैक्षिक शिकायतों पर चर्चा एवं कार्यवाही को दर्ज किया जाय।
· अध्यापकों द्वारा निश्चित पाठ्यक्रम का अनुश्रवण और बच्चों के सीख के स्तर पर अभिभावकों के साथ चर्चा की जाय।
·  एस.एम.सी.  की मासिक बैठक हेतु तिथि वर्ष भर के लिए निर्धारित हो यदि दिनाँक में परिवर्तन हो तो दर्ज किया जाए।
·   रजिस्टर के अन्त में कुछ चर्चा के बिन्दु दिये गये है जिन्हें बैठकों के दौरान बीच-बीच में पढ़कर सुनाये जाए

विद्यालय प्रबन्ध समिति के सदस्यों एवं समुदाय की भागीदारी से शिक्षा हेतु किये जा रहे प्रयास


बैठक के उपरान्तः-
·   कार्यवृत्त को एक बार पढ़ने के उपरान्त बैठक की समाप्ति की घोषणा अध्यक्ष द्वारा की जाए
·  बैठक समाप्त करने के उपरान्त सभी सदस्यों को सदस्य सचिव/प्रधानाध्यापक द्वारा धन्यवाद  दिया जाये व अगली बैठक की तिथि  की घोषणा की जाए प्रत्येक त्रैमाह अथवा छः माह में अभिभावकों की सभा बुलाकर अद्यतन कार्यवाही और प्रगति से अवगत कराया जाये।
·    वर्ष में एक बार आम सभा/खुली बैठक की जाय जिसमें बच्चों के अभिभावक, गाँव के लोग, गाँव पंचायत के प्रतिनिधि उपस्थित हो। रजिस्टर जन सुनवाई/आम बैठकों में तथ्यों के आधार पर प्रस्तुतीकरण हेतु प्रयोग करे।
·    एस.एम.सी. दस्तावेज़ के विश्लेषण के माध्यम से यह मालूम कर सकती है कि विद्यालय की पूर्व स्थिति एवं वर्तमान स्थिति में क्या बदलाव हुआ किन समस्याओं/मुददों का समाधान हुआ तथा भविष्य की रणनीति क्या होगी?
·  जिन समस्याओं को एस.एम.सी. स्वयं हल नहीं कर सकती है उन्हें बड़े समुदाय में, स्थानीय प्राधिकारी (पंचायत) एवं उच्च अधिकारियों को अवगत करना जा सकता है।

प्रारम्भिक शिक्षा और पंचायतीराज : उत्तर प्रदेश


·  एसएमसी की बैठकों का रजिस्टर स्वयं मूल्यांकन एवं वाह्य मूल्यांकन दोनों का एक प्रमाणिक माध्यम है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any span link in the comment box.